शहर में महफूज नहीं सीनियर सिटीजन

शहर के शिवराम पाल की हत्या ने एक बार फिर अपने शहर में बुजुर्गो की सुरक्षा पर प्रश्न चिन्ह लगा दिया है। कई बार इनकी सुरक्षा को लेकर सवाल खड़े किए जा चुके हैं। घटना के बाद कुछ दिनों को पुलिस प्रशासन भी चेतता है। उसके बाद फिर सब पहले जैसा हो जाता है। शहर में भी बुजुर्गो की सुरक्षा व्यवस्था के लिए कई योजना बनाई गईं, मगर समय के साथ सब फेल हो गईं।

Advertisements
Read Article →