परिवर्तन संस्था:पांच रुपये में गरीबों को भरपेट भोजन

कोई गरीब भूखा न सोये इस संकल्प के साथ रविवार को परिवर्तन संस्था ने करीब दो सौ गरीबों को सब्जी रोटी देकर भरपेट भोजन खिलाया। यह भोजन जेल की महिलाओं […]

Read Article →

दिन भर भटके शादी विवाह वाले, बैंकों ने नहीं दिए कैश

‘तेरी नाराजगी वाजिब है दोस्त! मैं भी खुद से खुश नहीं आजकल’.. इन दिनों कुछ इसी तरह का माहौल है। जश्न का माहौल हो तो भी और कहीं कोई भटका मिल जाए तो भी। जहां शादियां हैं वहां मेहमान कम हैं, जो आए हैं वह भी ‘व्यवहार’ में कमजोर है। यह वह व्यवहार है जिसे जुटा कर लड़का-लड़की पक्ष खर्च के कुछ हिस्से का भुगतान कर दिया करते थे। दूसरी तस्वीर यह भी है अगर कोई देर तक अपनी जेब टटोले और उस जेब से नोट न निकलें तो दूसरा मदद को तैयार हो जाता है। जी हां! यह सब मंजर 500-1000 के पुराने नोटों पर लगी रोक के बाद के हैं।

Read Article →

बंगाली समाज लाया शहर में क्लब कल्चर

बंगाली समाज लाया शहर में क्लब कल्चर :: आजादी से पहले सिर्फ अंग्रेजों के ही क्लब चलते थे, समाज ने शहरियों के लिए खोले दरवाजे

Read Article →