उर्सला अस्पताल ‘हाउसफुल’, भर्ती पर ‘नो एंट्री’

कानपुर : मौसमी बीमारियों ने उर्सला अस्पताल में मरीजों की भर्ती पर ‘नो एंट्री’ लगा दी है। दिए गए तीन मामले यह बताने को काफी हैं कि हीट स्ट्रोक, बुखार, डायरिया, पीलिया, वायरल के मरीजों से अस्पताल के सभी 468 बेड फुल हो गए हैं। डॉक्टर मरीजों को भर्ती के लिए लिख रहे हैं लेकिन बेड न होने से उन्हें लौटाया जा रहा है

Read Article →

अस्पतालों में दवाएं खत्म, आफत में जान

विधानसभा चुनाव की आचार संहिता की वजह से सरकारी अस्पतालों के बजट रुक गए हैं। लाखों की उधारी के चलते कंपनियों ने दवाएं देने से हाथ खड़े कर दिए हैं। […]

Read Article →

बिहार के लिए रोल मॉडल बना हैलट

लाला लाजपतराय चिकित्सालय (हैलट) बिहार के लिए रोल मॉडल बन गया है। हाल में पुखरायां मे हुए पटना-इंदौर एक्सप्रेस रेल हादसे में घायल लोगों को बेहतर इलाज मुहैया कराने के लिए हैलट को यह उपलब्धि मिली है।

Read Article →

मिक्स वायरस का कानपुर पर हमला!

कानपुर : डेंगू और चिकनगुनिया ने शहर में हाहाकार मचा रखा है। आशंका है कि दोनों संक्रामक बीमारियों का यह मिक्स वायरस तो नहीं है? इसे लेकर विशेषज्ञ विचार-विमर्श कर रहे हैं। कानपुर समेत आधा दर्जन महानगरों से मरीजों के खून के नमूने पुणो की वायरोलॉजी लैब भेजे गए हैं जहां यह पहचान की जा रही है कि यह वायरस डेंगू या चिकनगुनिया के सिवा दूसरा तो नहीं?

Read Article →

अनाथ है उर्सला का आईसीयू

शासन को पता नहीं है कि उर्सला में आईसीयू एवं डायलिसिस यूनिट भी है। इसलिए अलग से बजट नहीं मिलता है। बुधवार को आईसीयू एवं डायलिसिस यूनिट का निरीक्षण करने आए मंडलायुक्त को उर्सला के निदेशक डॉ. उमाशंकर, सीएमएस डॉ. संजीव कुमार एवं आईसीयू प्रभारी डॉ. सपन गुप्ता ने यह जानकारी दी।

Read Article →

कानपुर – डॉक्टरों के लिए पहेली बना विचित्र बुखार

कानपुराइट्स पर महामारी ने धावा बोल दिया है। सिर्फ अगस्त महीने में इस बार डेंगू, चिकुनगुनिया, डायरिया, मलेरिया के जितने पेशेंट्स हॉस्पिटल्स पहुंच गए हैं, उतने पहले कभी नहीं पहुंचे। […]

Read Article →