अपराध की ओर कानपुर के टीनएजर्स

KANPUR : नवाबगंज में थर्सडे को जिस तरह एक नाबालिग बुआ ने घरवालों को सबक सिखाने के लिए दस साल की भतीजी की गर्दन रेत दी। उसने एक बार फिर टीनएजर्स के बारे में सभी को सोचने पर मजबूर कर दिया है। कानपुर में टीनएजर्स के संगीन अपराध का यह पहला मामला नहीं है। इससे पहले भी चोरी, लूट, रेप, डकैती और हत्या जैसे हीनियस क्राइम में टीनएजर्स का नाम आ चुका है। पेरेंट्स के लिए एक बड़ी चुनौती बनते जा रहे हैं टीनएजर्स। बच्चों में बढ़ती आपराधिक प्रवत्ति पेरेंट्स के लिए खतरे की घंटी है। कानपुर के टीनएजर्स के क्राइम ग्राफ और उससे जुड़े कई पहलुओं पर दैनिक जागरण- आई नेक्स्ट आज नजर डाल रहा है। जिससे आप अलर्ट हो जाएं क्योंकि मामला आपके लाडले से जुड़ा है।

हर महीने 20 से 22 केस

पुलिस के आंकड़ों के मुताबिक कानपुर में हर महीने औसतन 20 से 22 किशोर किसी न किसी अपराध में गिरफ्तार जा रहे हैं। इसमें ज्यादातर लूट, चोरी और तस्करी में पकड़े गए हैं। खास बात ये है कि इसमें अच्छी फैमिली के बच्चे भी हैं। वहीं, हत्या, दुष्कर्म, हत्या का प्रयास जैसे संगीन मामलों में ज्यादातर मिडिल क्लास और आर्थिक रूप से समृद्ध फैमिली के बच्चों के नाम सामने आ रहे हैं। जुवेनाइल बोर्ड के ताजा आंकड़ों के मुताबिक जहां 2014 में टीनएजर्स द्वारा किए गए अपराध के 799 मामले आए थे वहीं 2016 में इनकी संख्या 1045 पहुंच चुकी है। जोकि एक बड़ी चिंता का विषय है।

25 प्रतिशत रेप और मर्डर के मामले

अगर आज की बात करें तो जुवेनाइल कोर्ट में एक हजार से ज्यादा केस चल रहे हैं। जिसमें 300 से ज्यादा केस रेप, मर्डर, डकैती जैसे संगीन मामलों के हैं। इसमें रेप के केस सबसे ज्यादा हैं। बोर्ड के सदस्य कमलकान्त तिवारी के मुताबिक पहले रेप के केस बहुत कम आते थे। पिछले तीन से चार साल में रेप के केस अचानक बढ़ गए हैं। इसके पीछे सामाजिक बदलाव और मानसिक विकृति है। इस तरह के ज्यादातर केस में बच्चे मानसिक रोगी होते हैं। ऐसे में बच्चों में अगर जरा भी विकृति देखें तो तुरंत काउंसिलिंग कराएं.

ea8f8c4e-8c2b-4067-be5b-bb4c352e7eaf
12573968-a41a-46bb-854f-6f2cb50469d6

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s