कर्मचारियों की जान से ‘खेल’ रहा केस्को

KANPUR : दर्जनों हादसों के बाद भी न तो केस्को अफसरों की नींद टूट रही और न ही कॉन्ट्रैक्टर्स की। अपने फायदे के लिए वे केस्को इम्प्लाइज की जान खतरे में डाले हुए हैं। रेवेंयू सहित अन्य टारगेट्स को पूरा करने के लिए बगैर सेफ्टी किट के ही इम्प्लाइज से एलटी लाइनों में ही नहीं 13- 13 मीटर ऊंचाई पर स्थित हाईटेंशन लाइनों तक में काम कराया जा रहा है। पर उन्हें चिन्ता नहीं कि खतरों से खेल इम्प्लाई ग्लब्स, शूज, हेलमेट, सेफ्टी बेल्ट पहने हुए हैं या नहीं। इम्प्लाइज से रोजाना फॉल्ट, ब्रेकडाउन और डिस्कनेक्शंस आदि काम कराया जा रहा है। ये लापरवाही कभी भी इम्प्लाइज के लिए साबित हो सकती है। सबकुछ खुली आंखों से देखने के बावजूद अफसर और कॉन्ट्रैक्टर आंखें बन्द किए हुए हैं।

कहां गई 100 सेफ्टी किट?

फूलबाग, रतनपुर, कोपरगंज आलूमंडी, बिजलीघर परेड सहित कई डिविजंस में फॉल्ट, ब्रेकडाउन बनाते समय केस्को के इम्प्लाइज की मौत हो चुकी है। इनमें से अधिकतर इम्प्लाई प्राइवेट गैंग के थे। मौत की मुख्य वजह करंट तो थी ही, साथ में कई मामलों में मौत का कारण करंट लगने के बाद ऊंचाई से गिरना भी सामने आया था। हादसों को देखते हुए पिछले साल केस्को अफसरों ने 100 सेफ्टी किट मंगाई थी। जिसमें ग्लब्स, शूज, हेलमेट, ड्रेस, सेफ्टी बेल्ट आदि थे। जिससे कि फॉल्ट, ब्रेकडाउन या डिस्कनेक्शन आदि काम कर रहे इम्प्लाइज को करंट लगने का खतरा न रहे।

ताकि न हों हादसे का शिकार

पिछले साल 21 जुलाई को बिजलीघर परेड में हाईटेक लैब के उद्घाटन के दौरान तत्कालीन मिनिस्टर एनर्जी स्टेट मिनिस्टर यासर शाह के सामने सेफ्टी किट की प्रदर्शनी भी लगाई गई थी। तब ऐसी लगभग 150 सेफ्टी किट खरीदने का दावा किया गया है। शायद ये सेफ्टी किट्स शोपीस बनकर रह गई हैं। इलेक्ट्रिसिटी लाइनों के फॉल्ट्स, ब्रेकडाउन बनाते समय न तो इम्प्लाई ग्लब्स पहनने नजर आते हैं और न ही हेलमेट, शूज या ड्रेस पहने हुए होते हैं। यहां तक सेफ्टी बेल्ट तक नहीं लगाए होते हैं। ऐसा नहीं है कि इससे डिविजन, सर्किल या मुख्यालय के अफसर वाकिफ नहीं हैं.

शटडाउन के बावजूद दौड़ता है करंट

पॉवर शटडाउन में लापरवाही की वजह से रतनपुर, फूलबाग, कोपरगंज आलूमंडी डिविजन में हादसे हुए थे। तब तत्कालीन इंजीनियर्स ने शटडाउन होने पर करंट बैक फ्लो होने की सफाई दी थी। यानि कि पॉवर शटडाउन के बावजूद लाइनों में करंट दौड़ा करता है। ऐसी स्थिति 13 मीटर हाइट में दौड़ रही हाईटेंशन लाइन के फॉल्ट को बनाते समय सेफ्टी किट पहनना बहुत जरूरी है। क्योंकि कंरट लगने पर फॉल्ट बनाने वाला इम्प्लाई 13 मीटर ऊंचाई से नीचे गिर जाता है। जो कि मौत की वजह साबित होता है।

0f06d904-d161-4b8b-83a0-3d0d313b4d19

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s