हादसे के बाद रेलवे की बड़ी कार्रवाई, डीआरएम झांसी हटाए गए

पुखरायां में इंदौर-पटना (राजेन्द्र नगर टर्मिनल) एक्सप्रेस के दुर्घटनाग्रस्त होने के मामले में उत्तर प्रदेश सरकार की ओर से मुकदमा दर्ज कराया गया है। भीमसेन जीआरपी के इंस्पेक्टर अर्जुन सिंह की तहरीर पर जीआरपी थाने में रिपोर्ट दर्ज की गई। इंस्पेक्टर ने दुर्घटना के लिए अज्ञात रेलवे कर्मचारियों पर आरोप लगाते हुए तहरीर दी थी।

जिसके बाद रेलवे ने बड़ी कार्रवाई करते हुए डीआरएम झांसी हटा दिया है। सीनियर डिवीजनल मैकेनिकल इंजीनियर नावेद तालिब, डिवीजनल इंजीनियर लाइन मनोज मिश्रा निलंबित किए गए। वहीं डीआरएम झांसी वीके अग्रवाल का तबादला रांची कर दिया गया।

सोमवार को प्रमुख सचिव गृह देवाशीष पाण्डा घटनास्थल पहुंचे थे। उन्होंने निरीक्षण करने के साथ ही साफ तौर पर कहा था कि इस मामले में कानूनी कार्रवाई कराई जाएगी। प्रमुख सचिव के इस बयान के बाद ही भीमसेन जीआरपी इंस्पेक्टर को एफआईआर दर्ज करने के आदेश हुए। इंस्पेक्टर ने खुद वादी बनकर अज्ञात रेल कर्मियों के खिलाफ धारा 304ए (लापरवाही से मौत) हो जाने की धारा में एफआईआर दर्ज करा दी।

एफआईआर दर्ज होने के बाद मुख्य सचिव राहुल भटनागर ने ट्वीट करके सभी को जानकारी दी। इस मामले में एसपी रेलवे झांसी सत्येन्द्र कुमार सिंह का कहना है कि इस एफआईआर की अलग से की जाएगी। रेलवे की जांच से कोई मतलब नहीं होगा। उन्होंने कहा कि जीआरपी विवेचना करेगी और जांच में लापरवाही के लिए जो भी जिम्मेदार होगा उसे विवेचना में शामिल किया जाएगा। उसी आधार पर गिरफ्तारी भी होगी।

Advertisements